ख़्वाब

तुम हमारी समंदर सी नज़रों को न समझ पाए,                   हमारी ख़ामोश इबादत क्या ख़ाक समझोगे।

Spread the love