मेरे मरने पर

मेरे मरने पर दूर के रिश्तेदार भी फायदा उठाएंगे,
मेरी मौत का बहाना बना कर सभी अपने काम निपटाएंगे।
जब कोई पूछेगा उनसे मेरे बारे में की तुमारा क्या नाता था?
झूठे रिश्ते जोड़कर वो मगरमच्छ के आंसू बार-बार बहाएंगे।
चाहे लाख खामियां रहीं हों मुझमें पर सबके आगे वो मेरी अच्छाईयां उंगलियों पर गिनाएंगे,
और मुझे देख कर अनदेखा करने वाले भी तब तो हाथ जोड कर मेरी फोटों के आगे नज़र आएंगे।
खैर जिनको वाकई में दुःख होगा वो कहां इतना रो पाएंगे,
मेरे साथ बिताए हर पल को याद करेंगे और बस गुमसुम हो जाएंगे।
रोना धोना अच्छाइयां गिनवाना सब बस दो दिन का तमाशा है,
मेरे लिए जो सुबह से चीख चीख कर आंसू बहा रहे होंगे मुझे वो लोग घर जाते ही भूल जाएंगे।

-प्रियंका सिरसवाल

Spread the love