परख

जोहरी तू अपनी परख खो रहा है,

पत्थरो को बटोर कर हीरो को खो रहा है।

खाँन अतिया रफ़ी

Spread the love