दीदार

”तेरे दीदार का नशा ही कुछ और था
कुछ उन चाँदनी रातों ने बढा रखा था
और कुछ
तेरे इंतजार ने”

©Manthan Prateek

Spread the love