एक सपना

 

सबका होता है एक सपना

जो होता उसका अपना

सपना है एक मेरा

जो करना है मुझे पुरा

यू तो तकदीर के आगे है हर किसी को झुकना

पर एक बार कोशिश करने से क्यों है रुकना

यू मिलती नही मंज़िल आसानी से

कोशिश तो करना पड़ता है हर किसी को

यू तो स्वपन मे सब अपना है

खुली आँखों से जो देखा वही सपना है

साँसों मे रखा अपने सपनो को

बाहों मे रखा हर मंज़िल को

जीत तो अपनी ही है

बस निगाह मे रखा अपने लक्ष्य को

 

 

 

Spread the love