ईमानदारी

ए इंसान क्यों खो रहा है  तू अपना ईमान?
अब कोई नहीं करेगा  तेरा सम्मान,
मत पकड़ तू बेईमानी का हाथ,
क्योंकि सच्चाई ही तो देगी तेरा साथ|

आखिर कब तक  बोलेगा तू लोगों से झूठ?
एक दिन जाएगा तेरा भी भांडा  फूट,
तब तू बहुत रोएगा,
खुद का सम्मान खोएगा|

कर तू खुद से लड़ाई,
तभी तो सामने आएगी तेरे अंदर की  सच्चाई,
बेईमानी करके मत कर तू पाप,
क्या तू ऐसे छोड़कर जाएगा अपनी छाप?

अब भी बचा है समय,
कर ले तू  निर्णय,
निभा तू अपनी जिम्मेदारी,
कर तू थोड़ी समझदारी,
और अपना ले इमानदारी|
और अपना ले इमानदारी||
– जाह्नवी बत्रा

Spread the love