“आँखें”

सुर्ख पड़ी आंखों में हजार से सवाल हैं…….
खामोश पड़े हैं लब्ज और उस पर भी
बेवक़्त एक बवाल हैं…..

Spread the love